अब पशुओं को मिलेगा आधार कार्ड, किसानों को कैसे मिलेगा फायदा, जानिए इससे जुड़ी हर जानकारी

अब पशुओं को मिलेगा आधार कार्ड, किसानों को कैसे मिलेगा फायदा, जानिए इससे जुड़ी हर जानकारी

अब पशुओं को मिलेगा आधार कार्ड, किसानों को कैसे मिलेगा फायदा, जानिए इससे जुड़ी हर जानकारी

News Josh Live, 12 Sept 2020

आधार कार्ड आजकल हर व्यक्ति के लिए पहचान का एक ज़रूरी दस्तावेज बन गया है। सरकारी कामों से लेकर आपके ऑनलाइन पेमेंट तक सारी चीज़ें आधार से ही जुड़ी हुई हैं। लेकिन अब सिर्फ इंसानों के ही नहीं पशुओं के भी आधार कार्ड होंगे। जी हां, अब केंद्र सरकार पशुओं के आधार कार्ड बनवाने के लिए पूरी तैयारी कर चुकी है।  बता दें कि पशुओं के लिए आधार कार्ड की प्रक्रिया शुरु हो चुकी है। ई-गोपाला ऐप की शुरूआत के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पशु आधार नंबर का जिक्र किया। जिसके जरिए जानवरों के बारे में सभी जानकारियां हासिल की जा सकेंगी। आज हम आपको पशु आधार से जुड़ी सभी जानकारी बता रहें हैं। कि कैसे पशु आधार कार्ड बनवाया जाएगा और किसानों के इसे क्या फायदा होगा ?


देशभर में पशुओं की टैगिंग शुरु हो चुकी है। हर गाय व भैंस के लिए यूनीक आइडेंटिफिकेशन नंबर जारी किया जा रहा है। इसके जरिए पशुपालक घर बैठे अपने पशु के बारे में सॉफ्टवेयर के जरिए जानकारी ले सकेंगे। आधार कार्ड के जरिए टीकाकरण, नस्ल सुधार कार्यक्रम, चिकित्सा सहायता सहित अन्य काम आसानी से हो पाएंगे।

किसानों का फायदा

भारत में पशुधन की जानकारी से संबंधित एक विशाल डेटाबेस बनाया जा रहा है। सरकार की कोशिश है कि पशुधन के जरिए किसानों की आमदनी बढ़ाई जाए। केंद्रीय पशुपालन विभाग के मुताबिक अगले डेढ़ साल में लगभग 50 करोड़ से अधिक मवेशियों को उनके मालिक, उनकी नस्ल एवं उत्पादकता का पता लगाने के लिए डिजिटल प्लेटफॉर्म पर यूनिक आईडी दी जाएगी।

कैसे होगी टैंगिंग

आधार नंबर के लिए मवेशियों के कान में 8 ग्राम के वजन वाला पीला टैग लगाया जाएगा। इसी टैग पर 12 अंकों का आधार नंबर चस्पा होगा। कहा जा रहा है कि अभी करीब 4 करोड़ गाय, भैंसों का आधार कार्ड बनाया गया है जबकि देश में 30 करोड़ से अधिक गाय, भैंस हैं। अभियान चलाकर इनकी टैगिंग की जाएगी।

पशुधन, भारत और दूध उत्पादन 

भारत दुनिया का सबसे बड़ा दूध उत्पादक देश है। एक सर्वे के अनुसार साल 2018 में 176.3 मिलियन टन दूध का उत्पादन हुआ। विश्व के कुल दूध उत्पादन में भारत की हिस्सेदारी लगभग 20 फीसदी है।

20 वीं पशुधन गणना के अनुसार देश में गायों की कुल संख्‍या 145.12 मिलियन आंकी गई है। जो 2012 में की गई गणना की तुलना में 18.0 प्रतिशत अधिक है।

भारत में रोजाना करीब 50 करोड़ लीटर दूध का उत्पादन होता है। इसमें से लगभग 20 फीसदी संगठित और 40 फीसदी असंगठित क्षेत्र खरीदता है। लगभग 40 फीसदी दूध का इस्तेमाल किसान खुद करता है।

यूपी, राजस्थान, गुजरात, आंध्र प्रदेश, महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश, हरियाणा एवं कर्नाटक भारत के सबसे बड़े दूध उत्पादक राज्य हैं। नेशनल डेयरी डेवलपमेंट बोर्ड के मुताबिक 2018-19 में भारत में प्रति व्यक्ति प्रति दिन दूध की औसत उपलब्धता 394 ग्राम थी। जिसमें हरियाणा सबसे आगे है जहां प्रति व्यक्ति औसत दूध 1087 ग्राम है।

 

News Josh Live

यह भी पढ़ें

कुछ खास x