कोरोना की नई दवा 2-DG: कैसे करेगी काम, कहां से इसे खरीदा जा सकता है?

कोरोना की नई दवा 2-DG: कैसे करेगी काम, कहां से इसे खरीदा जा सकता है?

कोरोना की नई दवा 2-DG: कैसे करेगी काम, कहां से इसे खरीदा जा सकता है?

रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) की ओर से बनाई गई कोविड-19 की दवा 2-डीजी की पहली खेप सोमवार को लॉन्च कर दी गई. रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और स्वास्थ्य मंत्री डॉ हर्षवर्धन ने दिल्ली में इस दवा को लॉन्च किया. रक्षा मंत्रालय ने इस महीने के शुरू में कहा था कि कोविड-19 के मध्यम लक्षण वाले और गंभीर लक्षण वाले मरीजों पर इस दवा के आपातकालीन इस्तेमाल को भारत के औषधि महानियंत्रक (डीजीसीआई) की ओर से मंजूरी मिल चुकी है.

दिल्ली स्थित डीआरडीओ के मुख्यालय में सोमवार को आयोजित एक कार्यक्रम में दोनों केंद्रीय मंत्रियों ने इस दवा की पहली खेप को लॉन्च किया. रक्षा मंत्रालय ने आठ मई को एक बयान में कहा था कि 2-डीऑक्सी-डी-ग्लूकोज (2-डीजी) के क्लीनिकल परीक्षण में पता चला है कि इससे अस्पताल में भर्ती मरीजों की ऑक्सीजन पर निर्भरता को कम करने में मदद मिलती है. साथ ही इस दवा से मरीज जल्दी ठीक होते हैं.

कोरोना की नई दवा 2-DG: कैसे करेगी काम, कहां से इसे खरीदा जा सकता है? जानिए इससे जुड़ी सभी बातें

डीआरडीओ की 2-डीजी दवा वायरस से संक्रमित कोशिका (सेल) में जमा हो जाती है और वायरस की वृद्धि को रोकती है. वायरस से संक्रमित कोशिका पर चुनिंदा तरीके से काम करना इस दवा को खास बनाता है.

  • TV9 Hindi
  • Updated On – 1:21 pm, Mon, 17 May 21Edited By: Ankit Francis
कोरोना की नई दवा 2-DG: कैसे करेगी काम, कहां से इसे खरीदा जा सकता है? जानिए इससे जुड़ी सभी बातें
(प्रतीकात्मक फोटो)

रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) की ओर से बनाई गई कोविड-19 की दवा 2-डीजी की पहली खेप सोमवार को लॉन्च कर दी गई. रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और स्वास्थ्य मंत्री डॉ हर्षवर्धन ने दिल्ली में इस दवा को लॉन्च किया. रक्षा मंत्रालय ने इस महीने के शुरू में कहा था कि कोविड-19 के मध्यम लक्षण वाले और गंभीर लक्षण वाले मरीजों पर इस दवा के आपातकालीन इस्तेमाल को भारत के औषधि महानियंत्रक (डीजीसीआई) की ओर से मंजूरी मिल चुकी है.

दिल्ली स्थित डीआरडीओ के मुख्यालय में सोमवार को आयोजित एक कार्यक्रम में दोनों केंद्रीय मंत्रियों ने इस दवा की पहली खेप को लॉन्च किया. रक्षा मंत्रालय ने आठ मई को एक बयान में कहा था कि 2-डीऑक्सी-डी-ग्लूकोज (2-डीजी) के क्लीनिकल परीक्षण में पता चला है कि इससे अस्पताल में भर्ती मरीजों की ऑक्सीजन पर निर्भरता को कम करने में मदद मिलती है. साथ ही इस दवा से मरीज जल्दी ठीक होते हैं.

किस कंपनी ने बनाई दवा

हैदराबाद में डॉ. रेड्डीज लेबोरेटरीज के साथ तालमेल से डीआरडीओ की लेबोरेटरी आईएनएमएएस में यह दवा बनाई गई है. इस दवा से कोविड-19 से संक्रमित लोगों को काफी फायदा होने की उम्मीद है. रक्षा मंत्री ने सोमवार को यह दवा लाॉन्च की और दो-तीन दिन बाद देश के मरीजों के लिए इस दवा की सप्लाई शुरू हो जाएगी. इस दवा को ऐसे समय मंजूरी दी गई जब भारत कोरोना वायरस की महामारी की दूसरी लहर से घिरा है और देश के हेल्थ इन्फ्रास्ट्रक्चर पर भारी दबाव है.

ऑक्सीजन की समस्या होगी दूर

कोविड-19 की चल रही दूसरी लहर की वजह से बड़ी संख्या में मरीजों को ऑक्सीजन और अस्पताल में भर्ती कराने की जरूरत पड़ रही है. इस दवा से कोरोना संक्रमण से जूझते लोगों के बचने की उम्मीद है क्योंकि यह दवा संक्रमित सेल पर काम करती है. यह कोविड-19 मरीजों के अस्पताल में भर्ती रहने की अवधि भी कम करती है. इस दवा को रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) की प्रतिष्ठित प्रयोगशाला नामिकीय औषिध तथा संबद्ध विज्ञान संस्थान (आईएनएमएएस) ने हैदराबाद के डॉ. रेड्डी लेबोरेटरी के साथ मिलकर बनाया है.

कैसे इस्तेमाल होगी दवा

एक मई को डीसीजीआई ने इस दवा को कोविड-19 के मध्यम और गंभीर लक्षण वाले मरीजों के इलाज के लिए इमरजेंसी इस्तेमाल की मंजूरी दी. दवा में सामान्य मॉलिक्यूल (जिससे दवा बनती है) और ग्लूकोज होने की वजह से इसे भारी मात्रा में देश में ही तैयार और उपलब्ध कराया जा सकता है. इस दवा को कोरोना के इलाज में अन्य दवाओं का सहायक बताया जा रहा है जिसका इस्तेमाल मुख्य इलाज में मदद करने के लिए किया जाता है. 2-डीजी दवा पाउडर के रूप में पैकेट में आती है, इसे पानी में घोल कर पीना होता है. बताया जा रहा है कि यह दवा सुबह-शाम लेनी होगी. अभी कीमतों के बारे में कुछ पता नहीं चल पाया है.

कैसे काम करती है 2-DG

डीआरडीओ की 2-डीजी दवा वायरस से संक्रमित कोशिका (सेल) में जमा हो जाती है और वायरस की वृद्धि को रोकती है. वायरस से संक्रमित कोशिका पर चुनिंदा तरीके से काम करना इस दवा को खास बनाता है. दवा के असर के बारे में कहा जा रहा है कि जिन लक्षण वाले मरीजों का 2डीजी से इलाज किया गया वे जल्दी ठीक हुए. रिसर्च के दौरान पाया गया कि इस दवा से इलाज करने पर मरीजों के इलाज के औसतन समय के मुकाबले 2.5 दिन कम समय लगा. क्लीनिकल ट्रायल के नतीजों के मुताबिक इस दवा से अस्पताल में भर्ती मरीज जल्दी ठीक हुए और उनकी ऑक्सीजन पर निर्भरता भी कम हुई. 2-डीजी से इलाज कराने वाले अधिकतर मरीज आरटी-पसीआर जांच में निगेटिव आए.

कैसे शुरू हुआ काम

डीआरडीओ का दावा है कि कि कोविड-19 का सामना कर रहे मरीजों को यह दवा बहुत लाभ पहुंचाएगी. पिछले साल के शुरुआत में महामारी शुरू होने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश में कोरोना की दवाएं बनाने की अपील की थी जिसके बाद डीआरडीओ ने इस प्रोजेक्ट पर काम शुरू किया. अप्रैल 2020 में महामारी की पहली लहर के दौरान आईएनएमएएस-डीआरडीओ के वैज्ञानिकों ने हैदराबाद स्थित सेंटर फॉर सेल्यूलर ऐंड मॉलिक्यूल बायोलॉजी के साथ मिलकर लैब में प्रयोग किया और पाया कि ये मॉलिक्यूल सार्स कोव-2 वायरस के खिलाफ कारगर हैं और वायरस के संक्रमण को बढ़ने से रोकते हैं.

क्लीनिकल ट्रायल के बारे में जानिए

रिसर्च के नतीजों के बाद डीसीजीआई के केंद्रीय औषधि मानक नियंत्रण संगठन (सीडीएससीओ) ने मई 2020 में 2-डीजी के कोविड-19 मरीजों पर दूसरे चरण का ट्रायल करने की मंजूरी दी. दवा के प्रभाव और सुरक्षा की जांच करने के बाद मई से अक्टूबर 2020 तक दूसरे चरण का टेस्ट किया गया और पाया गया कि सुरक्षित होने के साथ-साथ कोविड-19 मरीजों के ठीक होने भी मदद करता है. दूसरे चरण के पहले हिस्से में छह अस्पतालों में और दूसरे चरण के दूसरे हिस्से में देश के 11 अस्पतालों में 110 मरीजों पर परीक्षण किया गया. सफल नतीजों के बाद डीसीजीआई ने नवंबर 2020 में तीसरे चरण के परीक्षण को मंजूरी दी.

किन राज्यों में हुआ ट्रायल

तीसरे चरण का ट्रायल दिसंबर 2020 से मार्च 2021 के बीच देश भर के 27 अस्पतालों के 220 मरीजों पर किया गया. ये अस्पताल दिल्ली, उत्तर प्रदेश, पश्चिम बंगाल, राजस्थान, महाराष्ट्र, आंध्र प्रदेश, तेलंगाना, कर्नाटक और तमिलनाडु के हैं. तीसरे चरण के क्लीनिकल ट्रायल के आंकड़े डीसीजीआई के सामने रखे गए. नतीजों के मुताबिक 2-डीजी दवा से लक्षण वाले मरीजों में अच्छा सुधार हुआ और तीसरे दिन से ही इस दवा से ऑक्सीजन निर्भरता (31 प्रतिशत के मुकाबले 42 प्रतिशत) पूरी तरह से समाप्त हो गई. इसी तरह का सुधार 65 साल से अधिक उम्र के मरीजों में भी देखने को मिला.

News Josh Live

यह भी पढ़ें

कुछ खास x