एक्शन में सीएम उड़नदस्ता, आरटीओ ऑफिस में फर्जी कमर्शियल लाइसेंस घोटाले का पर्दाफाश

एक्शन में सीएम उड़नदस्ता, आरटीओ ऑफिस में फर्जी कमर्शियल लाइसेंस घोटाले का पर्दाफाश

एक्शन में सीएम उड़नदस्ता, आरटीओ ऑफिस में फर्जी कमर्शियल लाइसेंस घोटाले का पर्दाफाश

News Josh Live, 27 Sept, 2020

सीएम फ्लाइंग ने आरटीए विभाग में भ्रष्टाचार का बड़ा मामला उजागर किया है। प्रदेश के अन्य जिलों के आरटीए सचिव कार्यालय के नाम पर बनवाए गए नकली कमर्शियल ड्राइविंग लाइसेंसों को रिन्यू कर दिया गया। इस घोटाले में आरटीए कार्यालय के अधिकारी, कर्मचारियों, कंप्यूटर ऑपरेटरों सहित अन्य लोगों के नाम सामने आए हैं। इस संबंध में पलवल के कैंप थाना पुलिस में मुकदमा दर्ज करवाया है। अभी तक पुलिस किसी भी आरोपी को गिरफ्तार नहीं कर पाई है।

सीएम फ्लाइंग के डीएसपी देवेंद्र सिंह ने पलवल के कैंप थाना पुलिस को दी शिकायत में कहा है कि व्यावसायिक ड्राइविंग लाइसेंस का पांच साल में नवीनीकरण(रिन्यू) करवाना होता है। उन्हें सूचना मिली थी कि पलवल आरटीए कार्यालय में फर्जी तरीके से व्यावसायिक ड्राइविंग लाइसेंस का नवीनीकरण करने का काम किया जाता है, जिस पर संज्ञान लेते हुए पलवल आरटीए कार्यालय से बीती 16 सिंतबर को गुरुग्राम जिला के गांव उदाका निवासी यूसुफ व जमीन तथा गांव सहसोला निवासी रफीक के लाइसेंस की सत्यापित कापी प्राप्त की गई। जब इस बारे में गुरुग्राम आरटीए कार्यालय से पड़ताल करवाई गई तो पता चला कि गुरुग्राम आरटीए से उक्त लाइसेंस रिन्यू नहीं हुए हैं। लाइसेंस पर गुरुग्राम लाइसेंस अथॉरिटी की मुहर व हस्ताक्षर हैं।

शिकायत के बाद कार्रवाई

मामले की जांच करने पर पता चला कि फर्जी तरीके से लाइसेंस रिन्यू करने का काम आरटीए कार्यालय में कार्यरत अधिकारी, कर्मचारी, कंप्यूटर ऑपरेटर सहित अन्य की मिलीभगत से किया जा रहा है। सीएम फ्लाइंग को दी शिकायत में कहा गया है कि जांच के दौरान फर्जी तरीके से कमर्शियल लाइसेंस रिन्यू करने वाले एक गिरोह का पर्दाफाश हो सकता है। उन्होंने आरटीए कार्यलय में कार्यरत कर्मचारी,अधिकारियों, कंप्यूटर ऑपरेटरों, लाइसेंस धारकों के खिलाफ धोखाधड़ी व भ्रष्टाचार निरोधक अधिनियम 1988 के तहत कार्रवाई करने की बात कही है।

News Josh Live

यह भी पढ़ें

कुछ खास x