कल होगा हरियाणा जाम, किसानों के चक्का जाम आह्वान पर सख्ती के निर्देश जारी, देखिए

कल होगा हरियाणा जाम, किसानों के चक्का जाम आह्वान पर सख्ती के निर्देश जारी, देखिए

कल होगा हरियाणा जाम, किसानों के चक्का जाम आह्वान पर सख्ती के निर्देश जारी, देखिए

News Josh Live, 19 Sept, 2020

केंद्र सरकार द्वारा लागू किए गए कृषि अध्यादेशों को लेकर देश भर के किसानों में रोष है। किसान अपनी मांगों को लेकर अडिंग है कि सरकार इन अध्यादेशों को वापस ले। हरियाणा में भी किसान काफी विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। बीते 10 सिंतबर को पीपली में महारैली आयोजित हुई, जिसमें किसानों ने विरोध प्रदर्शन किया।

एक तरफ किसान इन बिलों को वापस लेने की बात सरकार से कर रहे हैं, तो दूसरी तरफ सरकार ने भी साफ तौर पर कह दिया है कि बिल वापस नहीं होंगे। धीर-धीरे अब ये मुद्दा राजनीति होता जा रहा है। विपक्ष लगातार सरकार को निशाने पर ले रहा है और किसानों का समर्थन कर बिल को पारित न होने की बात कर रहा है। किसानों की आड़ में विपक्ष अपना उल्लू सीधा करने में जुटा है।

दरअसल, भारतीय किसान यूनियन द्वारा चेतावनी दी गइ थी कि अगर 20 तारिख तक तीनों अध्यादेश वापिस नही लिए गए तो 20 तारिख को किसान यूनियन प्रदेश मे रोड जाम करेंगे। भारतीय किसान यूनियन और अन्य किसान संगठनों के रोड जाम की चेतावनी के बाद प्रदेश सरकार ने निगरानी बढ़ा दी है। प्रदर्शनकारियों से निपटने के लिए पूरे प्रदेश को अलर्ट पर रखा गया है।

गृह सचिव विजयवर्धन ने लिखित आदेश जारी करते हुए सभी उपायुक्तों और पुलिस अधीक्षकों को फील्ड में उतारा है।डीसी-एसपी सुनिश्चित करेंगे कि प्रदर्शन के दौरान कहीं पर कोई हिंसा न हो। आपात स्थिति से निपटने के लिए रविवार को पुलिस और प्रशासन के अफसर-कर्मचारियों के साथ ही अस्पतालों में मेडिकल और पैरामेडिकल स्टाफ की छुट्टियां रद कर दी गई हैं। निजी अस्पतालों और एंबुलेंस को भी पूरे स्टाफ के साथ अलर्ट पर रखा गया है।

नेशनल और स्टेट हाईवे पर यातायात सुचारू रखने के लिए ड्यूटी मजिस्ट्रेट लगाए गए हैं जो प्रदर्शन के दौरान सड़कों पर पेट्रोलिंग करेंगे। जाम से बचने के लिए वैकल्पिक मार्गों का भी इस्तेमाल किया जाएगा। प्रदर्शनकारी अगर कहीं जाम लगाने में सफल रहते हैं तो ट्रैफिक को वैकल्पिक मार्गों के जरिये सुचारू किया जाएगा।

चंडीगढ़ में कंट्रोल रूम बनाया गया है जहां से गृह सचिव विजयवर्धन पूरे प्रदेश पर नजर रखेंगे। कहीं पर भी गड़बड़ी होने की स्थिति में कंट्रोल रूम के टेलीफोन नंबर 01722711925 पर सूचना दी जा सकती है।

संवेदनशील स्थानों पर अतिरिक्त पुलिस बल तैनात किया गया है। प्रदर्शनकारियों पर शांति के साथ निगाह रखी जाएगी, लेकिन किसी को भी कानून हाथ में लेने की इजाजत नहीं होगी। प्रदर्शन के दौरान अगर कोई लूट, आगजनी, संपत्ति या वाहनों को नुकसान पहुंचाने की कोशिश होती है तो पुलिस प्रशासन को सख्ती बरतने के निर्देश दिए गए हैं।

गृह मंत्री अनिल विज ने किसान संगठनों से आह्वान किया कि वे किसी भी सूरत में राष्ट्रीय राजमार्ग पर न आएं। कोरोनाकाल में इमरजेंसी सेवाओं में कोई परेशानी नहीं आनी चाहिए। विज ने कहा कि आजाद देश में विरोध करने, धरने और प्रदर्शन का सभी का अधिकार है, लेकिन कानून से खिलवाड़ की इजाजत किसी को नहीं दी जा सकती। महामारी के चलते किसी भी जगह भीड़ नहीं लगने दी जाएगी, क्योंकि इससे संक्रमण फैलने का खतरा है। कोरोना से बचाव की गाइडलाइन का पालन करते हुए किसान संगठन अपनी बात रख सकते हैं।

 

News Josh Live

यह भी पढ़ें

कुछ खास x