गर्व का पल: पहली बार भारतीय नौसेना के युद्धपोत पर तैनात होंगी दो महिला अधिकारी

गर्व का पल: पहली बार भारतीय नौसेना के युद्धपोत पर तैनात होंगी दो महिला अधिकारी

गर्व का पल: पहली बार भारतीय नौसेना के युद्धपोत पर तैनात होंगी दो महिला अधिकारी

News Josh Live, 22 Sept, 2020

सशस्त्र बलों में लैंगिक समानता की दिशा में एक बड़े कदम के रूप में, पहली बार दो महिला भारतीय नौसेना के युद्धपोत पर तैनात होंगी। इन महिला अधिकारियों ने भारतीय नौसेना के युद्धपोतों पर तैनात होने वाली पहली बनकर इतिहास रच दिया है। सब लेफ्टिनेंट कुमुदिनी त्यागी और सब लेफ्टिनेंट रीति सिंह युद्धपोतों के डेक से संचालन करने वाली भारत की पहली महिला एयरबोर्न टैक्नीशियन होंगी।

आपको बता दें कि भारतीय डिफेंस फोर्सेस में महिलाओं को बराबरी का मौका दिए जाने की बहस काफी लंबे समय से चलती आ रही है। इसी के तहत हाल ही में महिलाओं के लिए सेना में स्थायी कमीशन को हरी झंडी मिली थी। लेकिन अब भारतीय नौसेना भी महिलाओं को एक खास मौका देने जा रही है। पहली बार नेवी की दो महिला अधिकारियों को वॉर शिप पर क्रू के तौर पर तैनात किया जाएगा।

इंडियन नेवी ने सब लेफ्टिनेंट कुमुदनी त्यागी और सब लेफ्टिनेंट रीति सिंह को नेवल क्रू के तौर पर तैनात करने का फैसला किया है। दोनों महिला अधिकारी फिलहाल नेवी के मल्टीरोल हेलीकॉप्टर्स के सेंसर, सोनार कंसोल, सर्विलांस और पेलोड की ट्रेनिंग ले रही हैं।

भारतीय नौसेना की सब लेफ्टिनेंट कुमुदिनी त्यागी और सब लेफ्टिनेंट रीति सिंह.. ऩए MH-60 R हेलीकॉप्टर्स को ऑपरेट करेंगी। जिन्हें एक बेहतरीन मल्टी रोल हेलीकॉप्टर के तौर पर जाना जाता है। ये दोनों महिला अधिकारी भारतीय नौसेना के 17 अधिकारियों के एक महत्वपूर्ण दल का हिस्सा हैं।

युद्धपोत पर इन हेलीकॉप्टरों की लैंडिंग और टेक-ऑफ की ज़िम्मेदारी नेवल एविएशन ब्रांच के हाथों में होती है। किसी भी मिशन के दौरान ऐसे हेलीकॉप्टर में एक पायलट के अलावा नेविगेशन, मिशन प्लानिंग करने वाले साथी यानी एयर टेक्टिशियन की भूमिका महत्वपूर्ण होती है।

ऐसे किसी एक युद्धपोत पर सब लेफ्टिनेंट कुमुदिनी त्यागी और सब लेफ्टिनेंट रीति सिंह अब ये सभी जिम्मेदारियां निभाएंगी। भारतीय नौसेना के किसी भी एंटी सबमरीन वॉरफेयर मिशन में इनका बड़ा रोल होगा।

वैसे तो इंडियन नेवी में महिलाओं की एंट्री 1991 में हुई लेकिन लेफ्टिनेंट कुमुदिनी त्यागी और सब लेफ्टिनेंट रीति सिंह की ये कामयाबी हिंदुस्तान की बेटियों के सपनों को नए पंख देगी, क्योंकि देश की सरहद के साथ साथ समंगर की निगहबान भी बेटियां बन रही हैं।

 

News Josh Live

यह भी पढ़ें

कुछ खास x