हरियाणा नव नियुक्त प्रभारी बंसल ने कांग्रेस नेताओं की लगाई पहली क्लास, कहा- गुटबाजी नहीं चलेगी

हरियाणा नव नियुक्त प्रभारी बंसल ने कांग्रेस नेताओं की लगाई पहली क्लास, कहा- गुटबाजी नहीं चलेगी

हरियाणा नव नियुक्त प्रभारी बंसल ने कांग्रेस नेताओं की लगाई पहली क्लास, कहा- गुटबाजी नहीं चलेगी

News Josh Live, 18 Sept, 2020

प्रदेश के नए प्रभारी विवेक बंसल ने गुरुवार को प्रदेश कांग्रेस के नेताओं की पहली क्लास ली। इसमें उन्होंने उस बात पर जोर दिया, जिसकी वजह से कांग्रेसी एक मंच पर दिखाई नहीं देते। उन्होंने स्पष्ट कहा कि गुटबाजी नहीं चलेगी और इस पर लगाम लगाई जाएगी। प्रभारी ने कहा कि कोई भी नेता पार्टी से बड़ा नहीं है। सभी मिलजुल कर पार्टी को मजबूत करेंगे।

 

उन्होंने इशारे में प्रदेशाध्यक्ष कुमारी सैलजा और नेता प्रतिपक्ष भूपेंद्र सिंह हुड्‌डा को भी संदेश दिया कि जो भी पद हैं, वह पार्टी की वजह से है। व्यक्तिगत नहीं है। पिछले कई सालों से पार्टी का संगठन नहीं है। अब इसका विस्तार किया जाएगा। जिसमें निष्ठावान व सक्रिय कार्यकर्ताओं को जगह दी जाएगी। उन्होंने उन नेताओं को भी संदेश देने की कोशिश की है, जो पार्टी में खुद को बड़ा बताते हैं, लेकिन सक्रियता उनकी कम है।

पहली क्लास का कितना असर रहता है, इसका सच 21 सितंबर को केंद्र के तीन अध्यादेशों के खिलाफ प्रदेश में होने वाले प्रदर्शनों और इसके बाद बरोदा उपचुनाव में दिखाई देगा। जींद उपचुनाव में भी सभी नेता एक मंच पर आए थे, लेकिन बाद में आरोप लगे कि कई नेताओं ने सहयोग नहीं किया। उन्होंने कहा कि सार्वजनिक मंचों पर एक-दूसरे की आलोचना न करें। इस दौरान पार्टी की प्रदेशाध्यक्ष कुमारी सैलजा, पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र हुड्डा, कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव रणदीप सुरजेवाला, प्रदेश कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष फूल चंद मुलाना, धर्मपाल सिंह मलिक, कांग्रेस के राष्ट्रीय सचिव आशीष दुआ व वीरेन्द्र राठौड़ भी मौजूद रहे।

प्रदेशाध्यक्ष कुमारी सैलजा ने एक प्रस्ताव रख उन नेताओं को भी चुप कराने की कोशिश की, जिन्होंने कांग्रेस नेतृत्व को लेकर पत्र लिखा था। सैलजा ने प्रस्ताव रखा कि हरियाणा कांग्रेस सोनिया गांधी और राहुल गांधी के नेतृत्व में पूर्ण विश्वास रखती है। इसका सभी ने समर्थन किया। बंसल ने कहा कि वे एक-एक कर नेताओं से भी मिलेंगे।

पूर्व सीएम भूपेंद्र हुड्‌डा ने कहा कि कांग्रेस का एक प्रतिनिधिमंडल शुक्रवार यानी आज राज्यपाल से मिलकर विधानसभा का विशेष सत्र बुलाने की मांग करेगा, ताकि केंद्र के तीनों अध्यादेशों को निरस्त किया जा सके।

News Josh Live

यह भी पढ़ें

कुछ खास x