बरोदा उपचुनाव: चुनावी मैदान हुआ तैयार, देखिए किस पार्टी का कौन है उम्मीदवार

बरोदा उपचुनाव: चुनावी मैदान हुआ तैयार, देखिए किस पार्टी का कौन है उम्मीदवार

बरोदा उपचुनाव: चुनावी मैदान हुआ तैयार, देखिए किस पार्टी का कौन है उम्मीदवार

News Josh Live, 16 Oct, 2020

हरियाणा बरोदा विधानसभा सीट उपचुनाव को लेकर सभी पार्टियां ने अपने-अपने उम्मीदवारों को चुनावी मैदान में उतार दिया हैं। हर किसी ने अपनी जीत का दावा किया है। अब देखना दिलचस्प होगा की इस चुनावी मैदान में आखिर कौन जीतेगा। बीजेपी ने पहलवान योगेश्वर दत्त, कांग्रेस ने इंदुराज नरवाल, तो इनेलो ने जोगिंद्र मलिक को अपना उम्मीदवार चुना है। इधर पूर्व सांसद राजकुमार सैनी की लोकतंत्र सुरक्षा पार्टी की तरफ से भी यहां पर चुनावी ताल ठोकी जा रही है। वहीं, बीजेपी से टिकट न मिलने पर नेता कपूर नरवाल ने निर्दलीय ही चुनाव लड़ने का फैसला लिया और नामांकन भरा है।

यहां पर मतदान 3 नवंबर, 2020 को होगा। आयोग द्वारा जारी कार्यक्रम के अनुसार नामांकन भरने की अंतिम तिथि 16 अक्तूबर ,2020 है, जबकि नामांकन की जांच 17 अक्तूबर, 2020 को होगी। उम्मीदवारों द्वारा 19 अक्तूबर, 2020 तक नामांकन पत्र वापस लिए जा सकते हैं। 3 नवंबर, 2020 को मतदान होगा और 10 नवंबर, 2020 को मतों की गणना की जाएगी।

बता दें कि बरोदा में कांग्रेस विधायक श्रीकृष्ण हुड्डा के निधन के बाद उपचुनाव हो रहा है। श्रीकृष्ण हुड्डा यहां से लगातार तीन बार विधायक रहे।

भाजपा- योगेश्वर दत्त

बरोदा में अब भाजपा ने एक बार फिर योगेश्वर दत्त पर दांव खेला है। योगेश्वर दत्त 2019 के आम चुनाव में भाजपा के प्रत्याशी थे। उस वक्त वो दूसरे नंबर पर रहे थे। यहां पर श्रीकृष्ण हुड्डा ने भाजपा के योगेश्वर दत्त को हराया था। 2019 के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस के श्रीकृष्ण हुड्डा 42,556 वोट लेकर पहले स्थान पर रहे थे जबकि योगेश्वर दत्त को 37736 वोट मिले थे। दोनों के बीच 4840 वोटों का अंतर रह गया था।

कांग्रेस- इंदुराज नरवाल


यहां पर कांग्रेस ने इस बार श्रीकृष्ण हुड्डा परिवार को अलग कर इंदुराज नरवाल को टिकट दिया है। इंदुराज नरवाल भी कांग्रेस में पिछले काफी समय से सक्रिय नेता हैं। इंदुराज नरवाल जिला पार्षद रह चुके हैं। वहीं दीपेंद्र हुड्डा टीम में भी उनका अच्छा नाम हैं। हालांकि अब भूपेंद्र सिंह हुड्डा डॉ. कपूर नरवाल का नाम आगे कर रहे थे, लेकिन कुमारी सैलजा ने इंदुराज के नाम को आगे बढ़ाया। और इंदुराज के नाम पर सभी की सहमति बनी ।

इनेलो- जोगेंद्र सिंह मलिक


इधर इंडियन नेशनल लोकदल ने अपने पुराने प्रत्याशी जोगेंद्र सिंह मलिक को दोबारा से टिकट दिया है। जोगेंद्र मलिक ने 2019 में भी चुनाव लड़ा था, उस वक्त वो पांचवें स्थान पर रहे थे। इनेलो को 2019 में मात्र 3145 वोट ही मिले थे। 2014 के विधानसभा चुनाव में इनेलो दूसरे स्थान पर रही थी लेकिन उस वक्त उम्मीदवार डॉ. कपूर सिंह नरवाल थे।

लोसुपा- राजकुमार सैनी


इधर पूर्व सांसद राजकुमार सैनी की पार्टी लोकतंत्र सुरक्षा पार्टी की तरफ से भी यहां पर प्रत्याशी उतारा गया है। राजकुमार सैनी ने खुद यहां पर अपना नामांकन दाखिल किया। राजकुमार सैनी के अलावा यहां पर सबसे ज्यादा पढ़े लिखे उम्मीदवारों में डॉ. जोगेंद्र सिंह मोर ने अपना नामांकन निर्दलीय के तौर पर दाखिल किया है।

निर्दलीय उम्मीदवार- कपूर नरवाल

इधर- बीजेपी नेता कपूर नरवाल को बीजेपी से टिकट न मिलन के बाद उन्होंने निर्दलीय प्रत्याशी के तौर पर चुनाव लड़ने का फैसला लिया गया है। इसके बाद बरोदा उप चुनाव को एक नया रंग मिल गया है।

दरअसल, कपूर नरवाल ने राजनीति में कई बार अपनी किस्मत आजमाई है, लेकिन हमेशा उन्हें हार का सामना ही करना पड़ा है।  कपूर नरवाल ने बरोदा क्षेत्र में 2 बार चुनाव लड़ा, लेकिन दोनों ही बार उन्हें हार मिली। हालांकि उन्होंने दूसरा स्थान प्राप्त किया।

नरवाल ने 2009 में इनेलो प्रत्याशी के तौर पर चुनाव लड़ा था। इसके बाद 2014 में भी वे इनेलो के उम्मीदावर के तौर पर रण में उतरे। लेकिन दोनों बार हार गए। नरवाल को 2014 चुनाव में हार का सामने तो करना पड़ा, लेकिन स्वर्गीय श्री कृष्ण हुड्डा को उन्होंने कड़ी टक्कर दी थी, वे केवल पांच वोटों से हारे थे।

उन्होंने वर्ष 2019 में विधानसभा चुनाव से पहले भाजपा की सदस्यता ग्रहण की थी। उस वक्त उन्हें बरोदा से भाजपा प्रत्याशी माना जा रहा था, लेकिन आखिरी वक्त पर ओलंपियन पहलवान योगेश्वर दत्त को भाजपा ने अपना प्रत्याशी घोषित कर दिया था और इस बार भी बीजेपी की तरफ से योगेश्वर दत्त को प्रत्याशी घोषित किया गया है।

 

 

News Josh Live

यह भी पढ़ें

कुछ खास x