हार-जीत तो लगी रहती हैं - भूपेन्द्र हुड्डा

हार-जीत तो लगी रहती हैं – भूपेन्द्र हुड्डा

हार-जीत तो लगी रहती हैं – भूपेन्द्र हुड्डा

भूपेन्द्र सिंह हुड्डा हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री. दावा किया जा रहा था की हुड्डा भारी मतों से जीत दर्ज करेंगे.

भूपेन्द्र हुड्डा बोले हार-जीत चलती रहती हैं

सोनीपत हरियाणा की हॉट सीट मानी जा रही थी. जहाँ भूपेन्द्र हुड्डा, दिग्विजय चौटाला और रमेश कौशिक की कड़ी टक्कर बताई जा रही थी. मगर जब नतीजे आए तो सब हैरान हो गए. भूपेन्द्र हुड्डा और दिग्विजय चौटाला सोनीपत सीट से बुरी तरह हार गए हैं. भाजपा प्रत्यक्षि रमेश चंद्र कौशिक सोनीपत से दूसरी बार संसाद बने हैं. टीवी के एग्ज़िट पोल के मुताबिक भी भूपेन्द्र हुड्डा की जीत तय थी.

भूपेन्द्र हुड्डा की जीत के क्या कारण रहें होंगे

भूपेन्द्र हुड्डा इससे पहले रोहतक लोकसभा सीट से चुनाव लड़ते रहें हैं. हुड्डा 1991, 1996, 1998 व 2004 में लगातार हरियाणा लोकसभा से संसाद बनते रहें हैं. उन्हें सोनीपत लोकसभा से टिकट मिलना ही उनकी हार का सबसे बड़ा कारण बताया जा रहा हैं. भूपेन्द्र हुड्डा 2 बार यानी 10 साल हरियाणा के संसाद रह चुके हैं.

हुड्डा नें कहा की हार-जीत तो चलती रहती हैं

नतीजे आने के बाद भूपेन्द्र सिंह हुड्डा नें कहा की प्रजातंत्र में हार-जीत चलती रहती हैं. हुड्डा नें कहा की हम जनता के फैंसले का स्वागत करते हैं. हुड्डा नें हारने के बाद उठाए EVM पर सवाल.

News Josh Live

यह भी पढ़ें

कुछ खास x