बिकरू कांड: रिपोर्ट में एसआईटी ने 80 अफसरों के खिलाफ कार्रवाई की सिफारिश की

बिकरू कांड: रिपोर्ट में एसआईटी ने 80 अफसरों के खिलाफ कार्रवाई की सिफारिश की

बिकरू कांड: रिपोर्ट में एसआईटी ने 80 अफसरों के खिलाफ कार्रवाई की सिफारिश की

नई दिल्ली : कानपुर के बिकरू में आठ पुलिसकर्मियों की जघन्य हत्या मामले की जांच के लिये गठित तीन सदस्यीय विशेष जांच दल की रिपोर्ट में पुलिस और मारे गये कुख्यात अपराधी विकास दुबे के बीच सांठगांठ का इशारा किया गया है और इस मामले में 80 पुलिसकर्मियों के खिलाफ कार्रवाई की अनुशंसा की गई है। एक वरिष्ठ अधिकारी ने यह जानकारी दी है।

SIT ने सौंपी 3200 पेज की रिपोर्ट
इसी वर्ष जुलाई माह में हुए बिकरू कांड की जांच के लिये अपर मुख्य सचिव संजय भूसरेड्डी की अध्यक्षता में गठित एसआईटी ने अपनी जांच रिपोर्ट उत्तर प्रदेश के गृह विभाग को सौंप दी है। एक अधिकारी ने बताया कि एसआईटी ने करीब 3500 पन्नों की जांच रिपोर्ट शासन को सौंप दी है। उन्होंने बताया कि, ‘रिपोर्ट में एसआईटी ने करीब 36 अनुशंसाएं की हैं और दोषी अधिकारियों और 80 पुलिसकर्मियों की भूमिकाओं का विस्तार से ब्योरा दिया है।’

गृह विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी ने गुरुवार को बताया कि रिपोर्ट का अध्ययन करने के बाद सरकार कार्रवाई करेगी। एसआईटी की रिपोर्ट में पुलिस, प्रशासनिक अधिकारियों और दुबे के बीच सांठगांठ की बात कही गई है। आधिकारिक सूत्रों के अनुसार, ‘जांच में यह भी बात सामने आयी है कि पुलिसकर्मी विकास दुबे के लिए मुखबिरी करते थे और घटना की रात विकास को मालुम था कि उसके घर पर पुलिस की छापेमारी होने वाली है।’

क्या है मामला?
राज्य सरकार द्वारा गठित इस एसआईटी में भुसरेड्डी के अलावा अपर पुलिस महानिदेशक (एडीजी) हरिराम शर्मा व पुलिस उप महानिरीक्षक (डीआईजी) जे.रवींद्र गौड शामिल थे। गौरतलब है कि दो-तीन जुलाई की दरम्यानी रात कानपुर के चौबेपुर थाना क्षेत्र के गांव बिकरू निवासी दुर्दांत अपराधी विकास दुबे को उसके गांव पकड़ने पहुंची पुलिस टीम पर हमला कर दिया गया था जिसमें आठ पुलिस कर्मी मारे गए थे। दुबे 10 जुलाई को पुलिस मुठभेड़ में मारा गया था और 11 जुलाई को एसआईटी का गठन किया गया था।

News Josh Live

यह भी पढ़ें

कुछ खास x