हरियाणा में कृषि कानूनों के खिलाफ आज “चक्का जाम”, सड़कों पर उतरेंगे किसान

हरियाणा में कृषि कानूनों के खिलाफ आज “चक्का जाम”, सड़कों पर उतरेंगे किसान

हरियाणा में कृषि कानूनों के खिलाफ आज “चक्का जाम”, सड़कों पर उतरेंगे किसान

News Josh Live, 05 Nov, 2020

केंद्र सरकार द्वारा लागू किए गए तीन कृषि कानूनों को लेकर किसानों का विरोध जारी है। बता दें कि आज फिर से भाकियू व विभिन्न किसान संगठन प्रदेशभर में रोड जाम करने के लिए तैयार है। भाकियू ने बीते माह 27 अक्टूबर को ही दिल्ली में हुई बैठक के तुरंत बाद देशभर में रोड जाम करने की घोषणा कर दी थी। जिसके मद्देनजर पुलिस प्रशासन भी अलर्ट मोड़ पर है।

जानकारी दें दें कि भाकियू की तरफ से मुख्य प्रदर्शन करनाल के रायपुर रोडान में किया जाना है, तो वहीं 4 जिलों कुरुक्षेत्र, करनाल, यमुनानगर व अम्बाला के किसान धरना देते हुए रोड जाम करेंगे। इसको लेकर पुलिस ने भी कमर कस ली है, जिसके चलते अर्धसैनिक बलों की 6 कंपनियां और 120 जवान भी तैनात कर दिए गए है।

प्रदर्शन को लेकर भाकियू प्रवक्ता राकेश बैंस ने बताया कि रायपुर रोड़ान के अलावा हिसार में सरसीड, फतेहाबाद में ढाणीगोपाल, सिरसा के सरदूलगढ़ रोड, ऐलनाबाद के मिट्ठी सुरेरां, सिरसा में नाथूसरी चौपटा, मलकाना रोड टोल प्लाजा रोहतक, पानीपत ब्राह्मण बांस, भिवानी में कलानौर हिसार में बहुअकबरपुर, चौक टीटोली चौक जींद में प्रदर्शन व सड़क जाम किया जाएगा।

वहीं दूसरी ओर भाकियू प्रदेशाध्यक्ष गुरनाम चढूनी ने इसको लेकर कहा कि सरकार सारे काले कानून पास कर चुकी है। अब जब तक इन्हें वापस नहीं लेती भाकियू व किसान शांत नहीं बैठने वाले। वैसे भी भाकियू को इन बिलों के विरोध में देश के कई संगठनों का सहयोग मिला हुआ है। 5 नवंबर को रोड जाम के बाद किसान 27 को दिल्ली कूच भी करने के लिए तैयार।

चूंकि गुरुवार को भाकियू के रोड जाम की घोषणा की जानकारी मिलते ही पुलिस प्रशासन भी अलर्ट हो गया है। जिसको ध्यान में रखते हुए कुरुक्षेत्र में धारा 144 भी लागू कर दी गई है। किसी भी व्यक्ति को लाठी, डंडे, तलवार, गंडासी, अग्नि शस्त्र व किसी प्रकार के घातक हथियार लेकर चलने तथा खुले पेट्रोल पंप व डीजल की बोतल पर प्रतिबंध लगा दिया गया है।

अखिल भारतीय किसान संघर्ष समन्वय समिति के वर्किंग ग्रुप के सदस्य सत्यवान प्रेम सिंह गहलावत और योगेंद्र यादव द्वारा मिली जानकारी के मुताबिक हरियाणा के किसान जगह-जगह सड़क रोककर किसान विरोधी कानूनों के खिलाफ रोष प्रकट करते नजर आएंगे। जिसको लेकर किसान संगठन झज्जर में छुछकवास और मांडौठी में दोपहर 12 से 4 बजे के बीच रास्ते बंद करेंगे। वहीं, पुलिस की ओर प्रदर्शन को देखते हुए तैयारी पूरी कर ली गई है।

 

आपको बता दें कि भाकियू किसान संगठनों के कहने पर प्रदेशभर के किसानों को एक साथ लाया गया है। इसी को लेकर किसान संगठन देर रात जाम लगाने की रणनीति पर विचार-विमर्श करते नजर आए। किसान नेताओं का साफ तौर पर कहना है कि वह तीनों कृषि कानूनों के विरोध में जाम लगाएंगे। इसी के तहत पुलिस की ओर से भी जाम जैसी स्थिति से निपटने के लिए कड़े इंतजाम करने का दावा किया जा रहा है।

यह पूरा प्रदर्शन 3 कृषि कानूनों के खिलाफ, भाकियू सितंबर से चला रही है। इसमें न केवल किसान, बल्कि दूसरे व्यापारी व आढ़ती संगठनों का भी किसानों को साथ मिल रहा है। भाकियू ने 5 नवंबर को रोड जाम की घोषणा की है। किसानों से अपील की है कि किसान अपने-अपने जिलों में रोड जाम करें। साथ ही आपको बता दें कि कुरुक्षेत्र में पहले सड़क जाम करने की रणनीति बनाई थी, लेकिन अब कुरुक्षेत्र के बजाय कार्यकर्ता करनाल में जाम लगाकर प्रदर्शन करने वाले है।

 

News Josh Live

यह भी पढ़ें

कुछ खास x