आज से शुरू होगा हरियाणा विधानसभा का मानसून सत्र, कई मुद्दों पर भारी हंगामे की संभावना

आज से शुरू होगा हरियाणा विधानसभा का मानसून सत्र, कई मुद्दों पर भारी हंगामे की संभावना

आज से शुरू होगा हरियाणा विधानसभा का मानसून सत्र, कई मुद्दों पर भारी हंगामे की संभावना

News Josh Live, 05 Nov, 2020

हरियाणा विधानसभा का मानसून सत्र आज फिर शुरू होगा। फिलहाल सत्र के लिए दो दिनों तक कार्यवाही चलाने को लेकर हरी झंडी मिली है। जिसमें कुई मुद्दों पर भारी हंगामे की संभावना है। आपको बता दें कि इससे पहले कोरोना के कारण 26 अगस्त को हरियाणा विधानसभा का मानसून सत्र स्‍थगित कर दिया गया था। पहली बैठक बस खानापूर्ति तक सीमित रही थी। दोबारा शुरू हो रहे मानसून सत्र में भारी हंगामे की संभावना है। विभिन्‍न मुद्दों पर इसमें सत्‍ता पक्ष और विपक्ष के बीच टकराव हो सकता है।

1. प्राइवेट नौकरियों में स्थानीय युवाओं को 75 फीसद आरक्षण औ सहित दर्जनभर बिल होंगे पास

मानसून सत्र की दूसरी बैठक में तीन नए कृषि कानूनों के साथ ही कई मुद्दों को लेकर मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस हमलावर दिखेगी तो सत्तारूढ़ भाजपा-जजपा ने पलटवार की पूरी तैयारी कर ली है। इस दौरान निजी क्षेत्र की नौकरियों में स्थानीय युवाओं को 75 फीसद आरक्षण और पंचायती राज संस्थाओं में महिलाओं को 50 फीसद आरक्षण सहित करीब 12 बिल पास किए जाएंगे।

2. विधायकों ने पहली बार 50 ध्यानाकर्षण प्रस्ताव लगाए, पांच काम रोको प्रस्ताव और पांच प्राइवेट मेंबर बिल

दोपहर बाद दो बजे शुरू हो रहे मानसून सत्र की अवधि फिलहाल दो दिन रखी गई है, लेकिन अंतिम फैसला बिजनेस एडवाइजरी कमेटी करेगी। विधानसभा में पहली बार करीब 50 ध्यानाकर्षण प्रस्ताव लगाए गए हैं और पांच काम रोको प्रस्ताव हैं। विधानसभा सचिवालय इनमें प्रस्तावों को शार्टलिस्ट करने में लगा है जिन पर चर्चा होगी। इसके अलावा पांच प्राइवेट मेंबर बिल हैं जिन्हें राय के लिए एलआर के पास भेजा गया है। हालांकि लंबी प्रक्रिया के चलते प्राइवेट मेंबर बिल पर मौजूदा सत्र में चर्चा मुश्किल है।

प्रश्नकाल में क्षेत्रीय मुद्दे उठाने के लिए विधायकों ने कुल 410 तारांकित सवाल लगाए थे, लेकिन ड्रा के माध्यम से चयनित 40 सवालों पर ही चर्चा होगी। इसके अलावा 107 अतारांकित सवाल विधायकों ने लगाए हैं। विधानसभा अध्यक्ष ज्ञानचंद गुप्ता ने कहा कि ड्रा के बावजूद सवालों का चयन ऐसे किया गया है कि सभी विधायकों को अपनी बात रखने का मौका मिल सके।

वहीं, सदन में सत्तारूढ़ भाजपा-जजपा सरकार की घेराबंदी करने के लिए विपक्ष ने रणनीति बना ली है। गठबंधन सरकार ने हाल ही में एक साल पूरा किया है। विपक्ष ने पिछले एक साल के दौरान कथित शराब घोटाले, रजिस्ट्री घोटाले के अलावा भाजपा-जजपा का कामन मिनिमम प्रोग्राम जारी नहीं होने पर सत्ता पक्ष को घेरने की तैयारी कर रखी है।

विपक्ष पर पलटवार के लिए भाजपा-जजपा भी तैयार हैं। बरोदा चुनाव से फारिग हुए मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने मंत्रियों के साथ चंडीगढ़ में डेरा डाल दिया है। बुधवार शाम को मुख्यमंत्री ने मंत्री समूह के सदस्यों के साथ विधानसभा सत्र की रणनीति पर चर्चा की। वीरवार को भाजपा-जजपा और कांग्रेस विधायक दल की अलग-अलग बैठकें होंगी जिनमें सदन की रणनीति तय की जाएगी।

3. पंजाब से अपना हिस्सा लेने के लिए विधानसभा में प्रस्ताव होगा पारित

विधानसभा में हरियाणा का 13 फीसद हिस्सा दबाए बैठे पंजाब से अपना हक लेने के लिए हरियाणा विधानसभा में सर्वसम्मति से प्रस्ताव पारित किया जाएगा। सदन की बैठक के बाद चंडीगढ़ के प्रशासक से मिलकर उन्हें प्रस्ताव की प्रति सौंपी जाएगी। विधानसभा में हरियाणा के लिए 40 फीसद हिस्सेदारी तय हुई थी, लेकिन पंजाब ने सिर्फ 27 फीसद जगह दी है। विधानसभा में हरियाणा के हिस्से के 20 कमरों पर पंजाब कब्जा जमाए हुए है।

 

News Josh Live

यह भी पढ़ें

कुछ खास x