शहीद भूपेंद्र चौहान का राजकीय सम्मान के साथ हुआ अंतिम संस्कार, 7 महीने के बेटे ने दी मुखाग्नि

शहीद भूपेंद्र चौहान का राजकीय सम्मान के साथ हुआ अंतिम संस्कार, 7 महीने के बेटे ने दी मुखाग्नि

शहीद भूपेंद्र चौहान का राजकीय सम्मान के साथ हुआ अंतिम संस्कार, 7 महीने के बेटे ने दी मुखाग्नि

News Josh Live, 09 Sept 2020

जम्मू-कश्मीर के बारामूला क्षेत्र में एलओसी पर शहीद हुए गनर भूपेंद्र चौहान को नम आंखों से अंतिम विदाई दी गई। राजकीय सम्मान के साथ उनका अंतिम संस्कार किया गया। इस दौरान लोगों ने ‘वंदे मातरम्’ शहीद भूपेंद्र अमर रहे और भारत माता की जय के नारे लगाकर शहीद को श्रद्धांजलि दी। जहां एक तरफ हर किसी की आंख नम थी, तो वहीं दूसरी तरफ देश के लिए जान कुर्बान करने का गर्व भी।

 तिरंगा यात्रा के दौरान भारत मां और शहीद भूपेंद�

प्रशासनिक अधिकारियों सहित जनप्रतिनिधि एवं सैकड़ों ग्रामीणों ने अपने लाडले को श्रद्धांजलि दी। सात महीने के बेटे पुनीत ने शहीद पिता को हाथ जोड़कर नमन किया। पत्नी और पिता ने भी शहीद को सैल्यूट करके अंतिम विदाई दी। चरखी दादरी जिला की सीमा से शहीद के पैतृक गांव बास (रानीला) तक करीब 10 किलोमीटर की यात्रा में जन समूह ने जगह-जगह पर सड़क के दोनों ओर खड़े होकर उन्हें श्रद्धाजंलि दी।

 शहीद भूपेंद्र सिंह के छोटे भाई दीपक ने बताया कि

तिरंगा यात्रा के दौरान भारत मां और शहीद भूपेंद्र अमर रहे के नारे भी लगाए गए। बता दें कि शहीद भूपेंद्र चौहान शनिवार अल सुबह बारामूला के हरदोई क्षेत्र में पाकिस्तान की ओर से सीज फायर का उल्लंघन करने के दौरान वीरगति को प्राप्त हो गए। बुधवार को आर्मी द्वारा उनकी पार्थिव देह दिल्ली से गांव बास में लाया गया। यहां पूरे राजकीय सम्मान से उनकी अंत्येष्टि की गई। शहीद के छोटे भाई दीपक ने शहीद जवान को नम आंखों से मुखाग्नि दी।

  1.  प्रशासनिक अधिकारियों सहित जनप्रतिनिधि एवं सै�

शहीद भूपेंद्र चौहान के दादा व ताऊ भी सेना में रहे हैं। भूपेंद्र ने तीसरी पीढ़ी में देश सेवा की है और गांव का पहला जवान है जो देश रक्षा करते हुए शहीद हुए हैं।शहीद के पिता मलखान सिंह इस दौरान अपने बेटे के खोने के गम में टूट गए हैं। पिता बोले, उनके बेटे ने आज उनका सीना गर्व से चौड़ा कर दिया है। शहीद भूपेंद्र सिंह के छोटे भाई दीपक ने बताया कि बड़े भाई की शहादत पर उन्‍हें गर्व है. दीपक बीएससी अंतिम वर्ष के छात्र हैं और वह भी सेना में भर्ती होने की तैयारी कर रहे हैं।

 शहीद की अंतिम यात्रा में सांसद धर्मबीर सिंह, वि�

दीपक ने बताया कि भाई की शहादत के बाद तो उसने सेना में भर्ती होने की ठान ली है। सेना में भर्ती होकर वह अपने बड़े भाई और पिता के सपने को जरूर पूरा करेगा। शहीद की अंतिम यात्रा में सांसद धर्मबीर सिंह, विधायक सोमबीर सांगवान, पूर्व मंत्री सतपाल सांगवान, डीसी शिव प्रसाद शर्मा व एसपी बलवान राणा सहित अनेक राजनीतिक व सामाजिक संगठनों के साथ-साथ हजारों ग्रामीण मौजूद रहे।

News Josh Live

यह भी पढ़ें

कुछ खास x