एक आदमी की शुरुआत से 600 बच्चों की पढ़ाई हो रही हैं

एक छोटी सी शुरुआत 600 गरीब बच्चों के साथ

एक छोटी सी शुरुआत 600 गरीब बच्चों के साथ

नमस्कार आप पढ़ रहें हैं न्यूज जोश, आज हम आपको ऐसे व्यक्ति से मिलवाने जा रहें हैं. जिनकी एक छोटी सी कोशिश 670 से ज्यादा गरीब झूगी-झोपड़ी के बच्चों का भविष्य सँवार रहीं हैं.

कैसे और किसने की शुरुआत

आज हम बात कर रहें हैं राजेश गर्ग की जो कि हरियाणा के कैथल शहर के रहने वाले हैं. राजेश पेशे से कैमिस्ट (दवाई की दुकान के मालिक) हैं. ये बात 2008 की हैं जब राजेश हर रविवार को कैथल शहर में स्थित झुग्गी-झोपड़ीयों में रहने वाले गरीब लोगों को दवाइयाँ देकर उनका उपचार किया करते थे. राजेश नें लगातार डेढ़-दो साल झुग्गियों में रहने वाले गरीब लोगों को मुफ्त दवाइयाँ उपलब्ध कराई. आपको बता दें की इन बस्तियों में रहने वाले लोग बहुत ज्यदा गरीब थे.

670 बच्चों की पढ़ाई

एक दिन राजेश गर्ग नें उन झुग्गियों में रहने वाले बच्चों से पूछा की क्या तुम पढ़ना चाहते हो, बच्चों नें ना कहकर सर हिला दिया. इन बच्चों का ना कहना भी लाजमी था क्योंकि इन बच्चों से आज तक किसी नें यह सवाल नहीं किया होगा. राजेश के कई बार समझने के बाद बच्चे व उनके माँ-बाप पढ़ाई के लिए राजी हुए. उसके बाद हर रविवार एक से दो घंटा राजेश उन बच्चों को पढ़ाने आते. धीरे-धीरे राजेश नें अपने निजी जीवन से थोड़ा और समय निकाला व तय किया की अब वह हर रोज 1-2 घंटा उन बच्चों को पढ़ाएँगे.

ऐसा लम्बे समय तक चलता रहा फिर 2011-2012 के बीच में राजेश गर्ग की एक टीम तैयार हो गई। जिसके बाद अब बस्ती के बच्चों का आस-पास के स्कूलों में दाखिला करवाया गया. टीम को दाखिला करवाने में भी कई परेशानी का सामना करना पड़ा क्योंकि बच्चे 1 या 2 नहीं थे बल्कि सेंकडो की मात्रा में थे. सेंकडो बच्चों की मासिक फीस व दाखिला करवाना एक चुनौती भरा काम था. टीम नें स्कूलों में जाकर बातचीत की तो कई स्कूल फ्री शिक्षा देने के लिए राजी हुए तो कई फ्री दाखिले के लिए. स्कूलों द्वारा मिली इस सहायता को न्यूज जोश दिल से सैलूट करता हैं.

देखते देखते टीम एक संस्था बन गई

राजेश गर्ग नें 2014 में अपनी टीम और काम को एक नया नाम दे दिया था. जिसका नाम ‘श्री नर नारायण सेवा समिति कैथल’ रखा गया था. यह संस्था आज भी अपने काम को पूरी निष्ठा से निभा रहीं हैं.

जब लोगों नें श्री नर नारायण सेवा समिति कैथल के काम और तरीके को देखा, तो काफी लोगों नें इस मुहिम में उनका साथ भी दिया. आपको बता दें की आज भी नर नारायण सेवा समिति 670 बच्चों को शिक्षा दे रही हैं. समिति ने इन बच्चो को स्कुल पहुंचाने के लिए एक बस व एक ओमनी गाड़ी की व्यवस्था की हैं. बस व गाड़ी की व्यवस्था प्रमुख समाज सेवी श्री ललित मोहन बिंदलिश, सोनाली चौधरी, सत्यदेव चौधरी, सुमेर चोधरी, डॉ राजेश गोयल व अन्य गुप्त दानदाताओं के सहयोग से की है. समिति ने सभी बच्चो के लिए निशुल्क टयूशन की व्यवस्था भी की है. समिति को 15 अगस्त 2019 यानी स्वतन्त्रता दिवस पर हरियाणा सरकार द्वारा सम्मानित भी किया गया हैं.

श्री नर नारायण सेवा समिति से जुड़ने या अपना योगदान देने के लिए समिति की वेब्सायट www.nnssktl.in पर विजिट करें.

News Josh Live

यह भी पढ़ें

कुछ खास x