सुप्रीम कोर्ट ने कहा- घर के भीतर कही बात पर नहीं लगता एससी-एसटी एक्ट

सुप्रीम कोर्ट ने कहा- घर के भीतर कही बात पर नहीं लगता एससी-एसटी एक्ट

सुप्रीम कोर्ट ने कहा- घर के भीतर कही बात पर नहीं लगता एससी-एसटी एक्ट

नई दिल्ली, NEWSJOSH… किसी भी अनुसूचित जाति या जनजाति के व्यक्ति को लेकर घर के भीतर कही कोई अपमानजनक बात, जिसका कोई गवाह न हो, वह अपराध नहीं हो सकती। यह बात सुप्रीम कोर्ट ने कही है। इसी के साथ शीर्ष न्यायालय ने याचिकाकर्ता पर लगा अनुसूचित जाति-जनजाति अधिनियम का मुकदमा रद करने का आदेश दिया है।

उत्तराखंड के इस मामले में एक औरत ने हितेश वर्मा पर घर के भीतर अपमानजनक बातें कहने का आरोप लगाया था। इसी के आधार पर पुलिस ने आदमी के खिलाफ एससी-एसटी एक्ट का मुकदमा दर्ज कर लिया था। सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि अनुसूचित जाति-जनजाति अधिनियम के तहत सभी तरह के अपमान और धमकियां नहीं आतीं। अधिनियम के तहत केवल वे मामले आते हैं जिनके चलते पीड़ित व्यक्ति समाज के सामने अपमान, उत्पी़ड़न या संत्रास झेलता है। अधिनियम के तहत मुकदमा दर्ज करने के लिए अन्य लोगों की मौजूदगी में अपराध होना आवश्यक है।

News Josh Live

यह भी पढ़ें

कुछ खास x