क्या पता हैं इंटरनेट किसने बनाया ?

क्या पता हैं इंटरनेट किसने बनाया ?

क्या पता हैं इंटरनेट किसने बनाया ?

आज के इस आधुनिकता भरे युग में इंटरनेट सबका मनोरंजन का अहम जरिया बन चुका है. सोशल मीडिया ने हमें एक दुसरे से इस कदर जोड़ रखा है कि अब सुबह उठते ही सबको सबसे पहले इंटरनेट की आवश्यकता महसूस होती है. क्या आपने कभी सोचा है कि इंटरनेट ना होता तो क्या होता? समय ऐसी करवट बदल चुका है कि अब इंटरनेट के बिना जीना असंभव सा लगता है. अगर केवल एक मिनट के लिए भी पूरी दुनिया का इंटरनेट बंद कर दिया जाए तो लाखों करोड़ों रूपये का नुक्सान हमे आ घेरेगा. कुल मिला कर यूँ मान लीजिये कि अब इंटरनेट मनुष्यता की मुख्य जरूरत बन चुका है. आज कल हर काम ऑनलाइन माध्यम से किया जाता है भले ही वो टेक्स्ट मेसेजिंग हो या फिर दफ्तरी काम, सब कुछ इंटरनेट के ज़रिये ही चल रहा है.

इंटरनेट की परिभाषा की बात की जाए तो यह एक प्रकार का विश्व स्तरीय समूह नेटवर्क है. इसमें लाखों नेटवर्क और कंप्यूटर्स एक दुसरे से जुड़े हुए हैं. बात अगर इसके विकास की करें तो क्या आपने कभी सोचा है कि आखिर इंटरनेट किसने बनाया, क्यों बनाया और किस वजह से बनाया? अगर नहीं तो यह ख़ास पोस्ट केवल आपके लिए ही है. यहाँ हम आपको इंटरनेट से जुड़े संपूर्ण इतिहास के बारे में बताने जा रहे हैं.

इंटरनेट की कहानी

इंटरनेट के इतिहास की बात करें तो इसकी कहानी बेहद रोचक है. दरअसल, इसकी शुरुआत एक कोल्ड वार के कारण हुई थी. 4 अक्टूबर 1957 में सोवियत संघ ने दुनिया का पहला मैं मेड सैटेलाइट लांच किया था. इसका नाम उस समय “Sputnik” रखा गया था. हालाँकि अमेरिका इसे बनाने के लिए काफी समय से कोशिशों में लगा हुआ था लेकिन सोवियत संघ ने इसको पहले बना दिया जिसके बाद दोनों देशों के बीच नोक-झोक हुई जोकि बाद में कोल्ड वार में बदल गई.

इंटरनेट का आविष्कार

साल 1961 के दौरान “Information Flow in Large Communication Nets” नामक पहले पेपर को प्रकाशित किया गया इसका पूरा श्रेय लियोनार्ड क्लेरॉक को दिया जाता है. इसके दो साल बाद यानि 1962 में जे.सीआर. लिक्लिडर को IPTO का पहला डायरेक्टर बनाया गया. उन्होंने रोबर्ट टेलर के साथ मिल कर एक नेटवर्क का विचार साझा किया जिसके बाद उसे ARPANET का नाम दिया गया.

इंटरनेट की लॉन्चिंग

बता दें कि सबसे पहले इंटरनेट का अविष्कार 1969 में डिपार्टमेंट ऑफ़ डिफेन्स द्वारा किया गया. यह इंटरनेट अमेरिकी रक्षा विभाग के द्वारा UCLA के तथा स्टैनफोर्ड अनुसंधान संस्थान कंप्यूटर्स का नेटवर्किंग करके शुरू किया गया था. इसमें सूचना के आदान- प्रदान के लिए एक नियम बनाया गया था जिसको हम ट्रांसमिशन कंट्रोल प्रोटोकॉल(TCP) या इंटरनेट प्रोटोकॉल भी कहते हैं. साल 1979 तक इंटरनेट ब्रिटिश डाकघर का पहला इंटरनेशनल कंप्यूटर नेटवर्क बन कर सामने आया.

इसी नेटवर्क को बाद में ARPN द्वारा 1980 में लांच किया गया. जिसके बाद 1980 में ही बिल गेट्स ने IBM के कंप्यूटर का ऑपरेटिंग सिस्टम बनाया. इंटरनेट का सही इस्तेमाल करने के लिए 1984 में एप्पल कंपनी ने पहला “आधुनिक सफल कंप्यूटर” लांच किया. इसकी खासियत ड्राप डाउन मेनू, फाइल्स एंड फोल्डर थे. इंटरनेट का सही इस्तेमाल 1989 में टिम बेर्नर ली द्वारा ब्राउज़र और लिंक की खोज के बाद किया जाने लगा. उन्होंने पहला वर्ल्ड वाइड वेब बनाया था जिससे इंटरनेट और भी सरल बन गया. अंत में 1998 में गूगल का जन्म हुआ जोकि आज भी दुनिया का सबसे बड़ा सर्च इंजन है. एक रिसर्च के अनुसार इंटरनेट की स्पीड तेज़ होने पर एक पूरा परिवार साल भर इंटरनेट पर खर्च होने वाले पैसे को बचा कर लगभग 5 लाख रूपये जमा कर सकता है.

News Josh Live

यह भी पढ़ें

कुछ खास x